20/11/2020

Also what could be a better date to share this post than 22/01/2020❤️

NumerologyGameOn

#ThankYouThursday_02

🥀02
16-01-2020
#ThankYouThursday
Dear White Girl,
Thank you for your kind words about my skin color, your words act as an armour sometimes against my self doubt.
I can recall that small incidence accurately in my mind, it was 2013 when I met you at a tuition center. We discussed a bit about studies. And during our conversation you told me that my skin color is bronze and it is the most attractive skin color, though you were far more beautiful than me.
I am not a makeup person, I just look good when I am happy. I have understood how important my natural skin is.
I love that oily skin glow on my forehead, those tiny eyes that can see wide range of world, that abnormally fat nose that can sniff lies, those tiny lips that help me smile wide and the tanned skin that show the hardships I have been through.
It is important to present yourself well but it is more important to trust and love yourself.
Thank you girl for an important life lesson.

कश्मकश

🥀

कभी लगता है तू ख़ास मुझे
फ़िर तू ख़ुद ही नकार देता है।
जब चाहूँ दूर रहना तुझसे
ख़ुद बहाने से बुला लेता है।
ये प्यार कैसा है तेरा मुझसे
ना करीब आने देता ना दूर रहता है।
-प्रिया

शायद सब कुछ समय पर छोड़ देना ही सही रहेगा, जो होगा देखा जायेगा।

Black Out Poetry 02

This time I thought of creating a hindi poetry by using the black out technique.

So here is the result.

सागर में किराए के बक्से का इंतज़ाम हो।

प्रेम पत्र भी बदनाम हो।।

उपर्युक्त पंक्तियों में सागर, प्रेम सम्बन्ध को दर्शाता है एवं बक्सा उस सम्बन्ध की कड़वाहटों को छिपाए रखने की जगह का रूप है।

दूसरी पंक्ति पहली पंक्ति से कुछ इस प्रकार जुड़ी है कि सारे बुरे ख्यालों को छिपाने पर भी प्रेम में नोक झोंक हो सकती है और इसका कारण ख़ुद प्रेम भी बन सकता है।

इसलिए कड़वाहट, गलतफ़हमी जैसे एहसासों को किराए के बक्से में छिपाना चाहिए और अगला किराया देने से पहले इन बुरे एहसासों को मिटा देना चाहिए यानि बक्से को समय समय पर खाली करना चाहिए।

विद्यालय की याद में

2019 में काफ़ी सालों के बाद मैं अपने विद्यालय गई और उस एहसास ने मुझे ये चार पंक्तिया लिखने पर मजबूर कर दिया।

🥀

सपनों की दौड़ में भाग रहे है हर पल
बस बहुत हुआ अब थक गए है हम
ऐ ज़िन्दगी चल फ़िर वही ले चल
जहाँ से इस दौड़ का हिस्सा बने थे हम

-प्रिया नेगी

ThankYouThursday_01

🥀01
02-01-2020
#ThankYouThursday
Dear 2019,
Thank you for being crazy and for revealing the crazy side of my personality. Thank you for providing ample of new opportunities. You set me on a roller coaster of emotions from the day one but today, when you are replaced I feel that you made me suffer to make me stronger, happier and overall a better person.
January made me taste rejections, betrayal, hatred and what not?
I collected the bits of positivity left around me and tried to get my life together in February but your second month played well with me. As soon as I felt that I grabbed the moment, it slipped from the tiny space left between my fist. Also February included the bad semester results.
March was filled with fun at college fests.
April gave me chance to meet new people and to revive the old relationships. I met my childhood friend after a long time.
May was filled with love and once in an year moments. Farewell memories.
The highlight of July was the start of his training. It was the first time when we were in different states for this long. It was tough but we did it.💪
September brought positivity. My poetry video was uploaded, I went to play Basketball Zonals and he got placed❤️
October stimulated my creative side with Inktober. Also it included a lot of outings.
November started on a good note. It was the busiest month honestly. Thanks for a wonderful birthday. 2019 your 11th month gave me the best day of the year when we visited school after 3years of completing our school studies.
December was all about university exam preparations. Went on a date, received a call for interview for Delhi Government Scholarship on the same day. Met a school senior almost after 2years.
And that was just a glimpse of what you gave me 2019, I will always miss you.
Thank you 2019.

हमारी कहानी

मैं खोई सी थी अपने विचारों में
तू था मदहोश कुछ ख़यालों में
दो ज़िन्दगियां अलग अलग थी हमारी
मिलकर हमने फिर बुनी एक कहानी
वो विचार जो कभी मिलते न थे
वो ख़्याल जो कभी जुड़ते न थे
वो किरदार मानों सिक्के के दो पहलु हो गए
जो साथ तो थे पर एक दूसरे को दिखते न थे
फ़िर तुमने बात करके नई शुरुआत करी
दिल से स्वागत मैंने उन विचारों का किया
फ़िर मेरे सपने मैंने भी साँझा किए तुमसे
तुमने उन्हें हमारे सपनों का नाम था दिया
मस्ती भरी बातें future plans में बदल गई
बातचीत करते हुए रातें सुबह में बदल गई
अब बहुत कुछ जानते थे एक दूसरे के बारे में
फिर भी एक एहसास था दबा किसी किनारे में
उस एहसास को महसूस तो हम दोनों ने था किया
पर दोस्ती में दरारें न आए इसलिए शायद बयां न किया
एक रोज़ हिम्मत तुमने दिखाई और इकरार था किया
मैं विचारों में उलझी थी शायद इसलिए इंकार था किया
एक साल गुज़ारा था एक दूसरे से दूर रहकर हमने
और फिर से बात करके एक नई शुरुआत की तुमने
अलग बस ये था इस बार प्यार का इकरार मैंने था किया
और तुमने न उस दिन न उसके बाद कभी इनकार किया
वो तारीख वो रात वो समय वो एहसास सब याद है आज
तू मेरी ज़िन्दगी का कोई आम हिस्सा नहीं तू खुद है मेरा ताज
तू खुद है मेरा ताज।

-प्रिया❤️